Poetry on whatsapp


Unknown poet ▂▄▅▆▇██▇▆▅▄▂ 📿🔔लाजवाब पंक्तियाँ 🔔📿 तन्हा बैठा था एक दिन मैं अपने मकान में, चिड़िया बना रही थी घोंसला रोशनदान में। पल भर में

1 2