Dilemma – deep hurt again. – Jay’s Tantra remedy


I go back to the Bible gifted by a friend and Bhagvadgita for answers this time again.

Lamentations 1:9Passage: Her filthiness clung to her skirts; she did not consider her future. Her fall was astounding; there was none to comfort her. “Look, LORD, on my affliction, for the enemy has triumphed.”

yagyaarthaatkarmano anyatra loko ayam karmabandhanah |
tadartham karma kaunteya muktasangah samaachara ||

Arjuna, In this world all actions become causes of bondage, unless they are performed as an offering to God. Therefore, work for the sake of God, without personal attachments.

 

I’m Out! – A Didactic Cinquain by Jay


I’m Out! – A Didactic Cinquain

by Jay

I’m Out!
Spiffing, weirdo
Snapping, walloping shock, humungous banging
Such feelings of pain
Out Cold

The Mentor and the MonaLisa Rhyming Couplet Ideas -Ver 1.0 by Jay


The Mentor and the MonaLisa

Rhyming Couplet Ideas by Jay

See the snuffing of the Mentor,
I think he’s angry at the core.

He finds it hard to see the accidental,
Overshadowed by the brainy rental.

Who is that practicing near the coat?
I think she’d like to eat the goat.

She is but a cunning rani,
Admired as she sits upon a sirianni.

Her crazed Snake is just a Car,
It needs no gas, it runs on double Bar.

She’s not alone she brings a Helix,
a pet Frog, and lots of felix.

The Frog likes to chase a Monolith,
Especially one that’s in the rhinesmith.

The Mentor shudders at the sarcastic goat
He want to leave but she wants his coat.

See ver 2.0 on my blog https://csuitementor.blogspot.com/

Creativity/ Humor – Random sentences generated for the day – :)


  1. Is it free?
  2. How was the math test?
  3. Should we start class now, or should we wait for everyone to get here?
  4. Sometimes, all you need to do is completely make an ass of yourself and laugh it off to realise that life isn’t so bad after all.
  5. If the Easter Bunny and the Tooth Fairy had babies would they take your teeth and leave chocolate for you?
  6. He turned in the research paper on Friday; otherwise, he would have not passed the class.

Random Acts of kindness


  1. Visit a friend who’s sick
  2. Save your family some time and buy their groceries
  3. Apologise to someone you may have hurt
  4. Be someone’s shoulder to cry on

Random Phrases generated today and my day predictions :)


Good I learnt in childhood to play Boxing ( Even have a Stitch mark as memory below my lips – given by a worthy opponent) but LIfe sometimes teaches us great lessons.

Roll With the Punches Meaning: To tolerate or endure through the unexpected mishappenings you may encounter from time to time.  Some were of course, my play and some of course happened or were stage managed by others. It happens. 

  1. Barking Up The Wrong Tree Meaning: To make a wrong assumption about something.  I don’t. I perceive, Do loud thinking and after thinking make Judgement calls never assumptions, presumptions of guess work. 
  2. Dropping Like Flies Meaning: To fall down ill or to die in large numbers.  Sad it happened in near family yesterday. 
  3. Down For The Count Meaning: Someone or something that looks to be defeated, or nearly so. Don’t know how this will happen or what hidden message is here. 
  4. Throw In the Towel Meaning: Giving up; to surrender.  I surrender to love or to God. As they say in Urdu couplet Kaho na Khuda ( God) se langar utha de  or Kaho Nakhuda Se (Human being) Langar utha de – Main bhi toofan ki zid dekhna chahata hoon !  
  5. Know the Ropes Meaning: Having a familiarity or understanding of how something works.  Process is so critical to know. At times this takes my longest time researching before mentoring or during. 
  6. Cut To The Chase Meaning: To get to the point, leaving out all of the unnecessary details.  It is a habit. It is called Occam’s Razor. 
  7. Needle In a Haystack Meaning: To keep going, pressing forward; never stopping.  I just registered for 3 new Udemy courses. Already done 14. Learning never ends. 
  8. Wild Goose Chase Meaning: Futilely pursuing something that will never be attainable. So finally, I gave up the chase. No more. 
  9. Not the Sharpest Tool in the Shed Meaning: Someone who isn’t witty or sharp, but rather, they are ignorant, unintelligent, or senseless. It is best to Ignore them. Ignoring is to kill. 
  10. Happy as a Clam Meaning: The state of being happy; feeling delighted. I am! Feels great to study new courses which bring new skills, knowledge and provide me new tools.

A friend sent a presentation of a new biz today. Wonderful implementation plan, business plan and hyperscalable model I like.

Via Nipun Mehta newsletter – Communication as Mutual Entrainment


Communication As Mutual Entrainment
by Ursula LeGuin

[Listen to Audio!]

Every act of communication is an act of tremendous courage in which we give ourselves over to two parallel possibilities: the possibility of planting into another mind a seed sprouted in ours and watching it blossom into a breathtaking flower of mutual understanding; and the possibility of being wholly misunderstood, reduced to a withering weed.

Candor and clarity go a long way in fertilizing the soil, but in the end there is always a degree of unpredictability in the climate of communication — even the warmest intention can be met with frost. Yet something impels us to hold these possibilities in both hands and go on surrendering to the beauty and terror of conversation, that ancient and abiding human gift. And the most magical thing, the most sacred thing, is that whichever the outcome, we end up having transformed one another in this vulnerable-making process of speaking and listening.

Live, face-to-face human communication is intersubjective. Intersubjectivity involves a great deal more than the machine-mediated type of stimulus-response currently called “interactive.” It is not stimulus-response at all, not a mechanical alternation of precoded sending and receiving. Intersubjectivity is mutual. It is a continuous interchange between two consciousnesses. Instead of an alternation of roles between box A and box B, between active subject and passive object, it is a continuous intersubjectivity that goes both ways all the time.

If you mount two clock pendulums side by side on the wall, they will gradually begin to swing together. They synchronize each other by picking up tiny vibrations they each transmit through the wall.
Any two things that oscillate at about the same interval, if they’re physically near each other, will gradually tend to lock in and pulse at exactly the same interval. Things are lazy. It takes less energy to pulse cooperatively than to pulse in opposition. Physicists call this beautiful, economical laziness mutual phase locking, or entrainment.

All living beings are oscillators. We vibrate. Amoeba or human, we pulse, move rhythmically, change rhythmically; we keep time. You can see it in the amoeba under the microscope, vibrating in frequencies on the atomic, the molecular, the subcellular, and the cellular levels. That constant, delicate, complex throbbing is the process of life itself made visible.

We, huge many-celled creatures, have to coordinate millions of different oscillation frequencies, and interactions among frequencies, in our bodies and our environment. Most of the coordination is effected by synchronizing the pulses, by getting the beats into a master rhythm, by entrainment.

Like the two pendulums, though through more complex processes, two people together can mutually phase-lock. Successful human relationship involves entrainment — getting in sync. If it doesn’t, the relationship is either uncomfortable or disastrous. […]

When you speak a word to a listener, the speaking is an act. And it is a mutual act: the listener’s listening enables the speaker’s speaking. It is a shared event, intersubjective: the listener and speaker entrain with each other. Both the amoebas are equally responsible, equally physically, immediately involved in sharing bits of themselves.

Mutual communication between speakers and listeners is a powerful act. The power of each speaker is amplified, augmented, by the entrainment of the listeners. The strength of a community is amplified, augmented by its mutual entrainment in speech.

This is why utterance is magic. Words do have power. Names have power. Words are events, they do things, change things. They transform both speaker and hearer; they feed energy back and forth and amplify it. They feed understanding or emotion back and forth and amplify it.

About the Author: Ursula Kroeber Le Guin was an American science-fiction novelist. Excerpt above from ‘The Magic of Real Human Conversation’.

Life lessons नेकी कर और दरिया में डाल


हातिमताई की नीति- कथाओं में एक प्रसंग आता है कि कोई फकीर प्रतिदिन तीन रोटियाँ बनाता था। उन तीन रोटियों में से वह एक तो किसी भूखे आदमी को देता दूसरी खुद खाता और तीसरी नदी में डाल देता। हातिम ने फकीर को जब रोज ऐसे करते देखा तो पूछा-महात्मन् आप एक रोटी किसी भूखे को देते हैं यह बात समझ में आती है दूसरी रोटी स्वयं खाते हैं- न समझ में आये तो इसमें भी ऐसी कोई बात नहीं है, पर तीसरी रोटी नदी में डाल देते हो यही समझ आने लायक नहीं है। इसका क्या मतलब?
तो कहते हैं कि फकीर ने बताया कि- तीन रोटियों में से एक किसी भूखे को देना फर्ज है, अपने लिए तो हर कोई खाता है, पर फर्ज को पूरा करना कोई गुमान करने लायक बात नहीं है। मालिक की इस दुनिया में सभी कोई दूसरों की भलाई करते हैं। एक इंसान ही ऐसा है जो नेकी करने के बाद समझता है कि उसने मालिक को खरीद लिया। कर्तव्य- सहज धर्म पूरा करने के बाद जैसे हम उसे याद नहीं रखते इसी प्रकार नेकी भी करने के बाद भुला देना चाहिए और इसी बात को मैं याद करता हूँ। तीसरी रोटी दरिया में डाल कर इस प्रसंग में परोपकार करने के बाद उसे भूल जाने की दिशा दी गई है, जो आत्म विकास के लिए अनिवार्य आवश्यक कक्षा है।
आमतौर पर लोग दो बातें याद रखते हैं। पहली तो यह कि किसने हमारे प्रति बुरा किया था। किसी ने भलाई की थी- इस बात को बहुत कम कृतज्ञ पुरुष ही याद रख पाते हैं जबकि याद यही रखना चाहिए और दूसरी बात यह याद रखी जाती है कि हमने किस का उपकार किया है। उपकार तो लोग इस प्रकार याद रखते हैं कि उसका स्मरण किसी बड़ी घटना से भी ज्यादा आता रहता है। कोई व्यक्ति यदि दिन भर में दस रुपये कमाता है और उसमें से एक रुपया किसी पुण्य कार्य में लगा देता है तो नौ रुपये किस प्रकार खर्च किये थे और उस दिन का उपार्जन कितना अनीति पूर्ण था ये सब बातें विस्मृति के गर्त में चली जाती हैं और याद यही रहता है कि एक रुपया परोपकार में लगा था। यह नितान्त आत्म-घाती है कि व्यक्ति अपने कार्यों में से केवल दूसरों की भलाई के लिए हुआ व्यय तथा औरों द्वारा किया गया अनिष्ट ही स्मरण रखे
विद्या, सम्पत्ति, शक्ति, अधिकार का अभिमान तो सभी बुरा समझते हैं और निन्दनीय मानते हैं। पर अनुचित और घातक पुण्य का अहंकार भी है। भौतिक संपदा के अहंकार की हानियाँ व्यक्ति को प्रत्यक्ष दिखाई देती है, पर पुण्य का, परमार्थ का अहंकार ऐसा है कि उसकी सूक्ष्म किन्तु अति संहारक हानियाँ व्यक्ति का अधःपतन भी कर डालती हैं और इस बात का पता भी नहीं चलता। अहंकार, अहंकार है वह ऐहिक विभूतियों का हो या दैविक विभूतियों का। क्योंकि अहंकार या अभिमान व्यक्ति के स्वात्म की परिधि को सीमित करता है, प्रतिबन्धित रखता है और व्यक्ति जब तक अहं की कारा से मुक्त नहीं होता तब तक उसे अपनी चेतना का उच्च आयाम अप्रत्यक्ष ही रहेगा।
इसीलिए विश्व के दार्शनिकों और ऋषि-मुनियों ने पुण्य कार्यों के अभिमान को भी परित्याज्य कहा है- गीता में बार-बार आये शब्द निरभिमानता का इतना सीमित अर्थ नहीं है। वहाँ सत्कार्यों के अभिमान की भी उपेक्षा की गई है। आत्म-विकास के इसी दर्शन को चार्ल्स लैम्ब ने अपने इन शब्दों में बाँधा है- मानव को चाहिए कि भलाई करे और उसे एकदम बिसार दे। इससे हृदय को महान सुख की प्राप्ति होती है। वस्तुतः अभिमान या दर्प व्यक्ति की चेतना पर एक भार उत्पन्न करता है जबकि वहाँ होना चाहिए प्रफुल्लता, उत्साह और हल्कापन। भारीपन और बोझिलता चेतना को अनुभूतियों के सागर की तलहटी में पहुँच देता है और पुण्य का- सत्कर्मों का दर्प तो जीवन नौका में ऐसा छिद्र उत्पन्न कर देता है कि उसके साथ उसमें बैठी अन्य विभूतियाँ जिनसे संसार का बहुत उपकार हो सकता है वे भी अकाल कवलित हो जाती हैं। क्योंकि दर्प प्रतिभा को कुण्ठित करता है और शक्तियों को कुन्द बनाता है।
जब किसी के प्रति कोई उपकार किया जाता है यदि उसे भुला दिया जाय तो हृदय को महान सुख इसलिए प्राप्त होता है कि उस हल्केपन से अन्य नई उपलब्धियों का द्वार खुलता है। बारहों मास फलने वाले किसी वृक्ष का फल जब तक टूट नहीं जाता तब तक उस स्थान पर कोई दूसरा फल नहीं लगता और जब टूट जाता है तथा वृक्ष यह भी भूल जाता है कि उसमें कोई फल लगा था अर्थात् वह स्थान पूर्ववत हो जाता है तब दूसरे फल की सम्भावना बनती है। यह क्षण निश्चित रूप से आह्लादपूर्ण ही होना चाहिए। हम भी जब किसी उपकार को विस्मरण में डाल देते हैं तो उस स्थान से पुनः दूसरा उपकार होने की संभावना बनती है और जन्म लेता है- एक अनूठा आनन्द।
‘अन्टु दिस लास्ट’ के लेखक रस्किन जिससे महात्मा गाँधी ने सर्वोदय की प्रेरणा प्राप्त की थी। ने अपने जीवन में कोई लाखों डालर कमाये। इस धनराशि की उन्होंने पाई-पाई परोपकार में खर्च कर डाली। उनकी पुण्य वृत्ति का परिचय देते हुए ‘एरीना’ पत्र में प्रकाशित हुआ था- निर्धन युवक युवतियों की, जो विद्याध्ययन में जैसे तैसे जुटे थे रस्किन ने आर्थिक सहायता की। श्रमिक स्त्री पुरुषों के लिए मकान बनवाये जो स्वास्थ्यप्रद होने के साथ-साथ सुविधाजनक भी थे। उन्होंने लन्दन के बाहर परती पड़ी जमीन को कृषि योग्य बनाने के लिए भी एक योजना बनाई तथा उसे क्रियान्वित किया। उस भूमि का विकास कर उन्होंने जमीन को उन भूमिहीन किसानों में बाँट दिया जो सामाजिक अत्याचार, शोषण या अपनी दुर्बलताओं के कारण दाने-दाने को मोहताज हो गये थे।
रस्किन निर्धन कलाकारों की सहायता करने में भी अति उदारता से काम लेते थे। एक बार उन्होंने किसी प्रसिद्ध कलाकार की सभी कृतियाँ खरीद लीं और लन्दन के एक पब्लिक स्कूल में लगा दीं। सन् 1877 ई॰ तक रस्किन ने लेखन द्वारा होने वाली समस्त आय और पैतृक उत्तराधिकार में मिली सम्पत्ति का पिचहत्तर प्रतिशत भाग लोकोपकारी कार्यों में खर्च कर दिया। तरुणाई में प्रवेश करते समय उनकी आर्थिक स्थिति कहीं और थी तथा सन 1877 में उसका चौथाई भाग भी उनके पास नहीं रहा, परन्तु मन इतने से भी नहीं भरा। अभी बहुत कुछ बाँट देने को उमड़ रहा था। रस्किन ने अपने लिए निश्चित किया कि 125 पौण्ड प्रतिमाह स्वयं पर खर्च करूंगा और शेष सब समाज को, निर्धन लोगों का जीवन स्तर ऊँचा उठाने के लिए समर्पित।
कुछेक लोकोपयोगी कार्य करने के बाद ही रस्किन चाहते तो अपना नाम संसार के महान सेवकों में लिखा सकते। परन्तु इस प्रकार वे बड़े आदमी भले ही बन जाते आत्मा तो तृषित ही रह जाती और रस्किन जीवन भर लुटाते रहे-बिना यह देखे कि कल क्या दिया था? यदि उनका ध्यान कल की सेवा का हिसाब लगाने में लग जाता तो बहुत सम्भव था मायावी मन-अब बस कहकर हाथ को पीछे खींच लेता।
परोपकार का आनन्द प्राप्त करने के लिए यह आवश्यक नहीं है कि व्यक्ति धनवान ही हो। निर्धन और अकिंचन परिस्थितियों में भी परोपकार का रस लिया जा सकता है। बस आवश्यक इतना भर है कि व्यक्ति निरहंकार और विनम्र होने की क्षमता रखता हो। इंग्लैण्ड के एक प्रख्यात व्यंग्य चित्रकार हो गये हैं ड्यू मौरियर। मौरियर अद्वितीय प्रतिभा सम्पन्न कलाकार थे, पर उनके जीवन काल में अन्य महामानवों की तरह उन्हें भी असफलता का ही मुँह देखना पड़ा। मुश्किल से वे अपने लिए दो समय का भोजन जुटा पाते थे, पर परमार्थ भावना उनमें कूट-कूटकर भरी थी और वे सदैव जरूरतमंदों की सहायता के लिए तत्पर रहते थे। एक दिन की घटना है- कड़कड़ाती शीत ऋतु थी। वे लन्दन के हैम्पस्टेड रोड से चले जा रहे थे। रास्ते में उन्होंने देखा कि एक वृद्ध व्यक्ति सड़क के किनारे पर बैठा हुआ है। उसके पास न तो सर्दी से बचने के लिए कपड़े हैं और न उदर ज्वाला की शान्ति के लिए पैसे। मौरियर के मन में करुणा जागी और उन्होंने अपनी जेब सम्भाली। पर वह तो खाली थी।
ऐसी परिस्थिति में उनकी करुणा और भी जागृत हुई। तथा उन्होंने वृद्ध व्यक्ति को अपने साथ लिया। वे चाहते थे कि वृद्ध व्यक्ति की रुपये पैसों से कुछ सहायता कर दी जाय। पैसों का प्रबन्ध करने के लिए उन्होंने योजना भी मन ही मन बना डाली। होटल की पाकशाला में उन्होंने श्यामाफलक पर कुछ चित्र बनाये और नीचे लिख दिया दर्शकगण-शुल्क 50 पैसे रख दें। यहाँ भीड़ इकट्ठी हुई और सभी लोगों ने शुल्क रख दिया। मौरियर ने बिना यह जाने कि कितनी रकम है सबकी सब समेट कर वृद्ध व्यक्ति की झोली भर दी और चुपचाप होटल से चल दिये।
क्या मौरियर अपनी उपकारी वृत्ति का विज्ञापन यह कहकर नहीं दे सकते थे कि मैं एक वृद्ध व्यक्ति के लिए यह मनोविनोद प्रस्तुत कर रहा था। वे यह भी तो सोच सकते थे कि इस विज्ञापन से और अधिक संग्रह हो जायेगा। पर वृद्ध के भाग्य में जो मिलना लिखा है- वह मिल जायगा यही मानकर उन्होंने स्वयं को छुपाये रखा और निर्णय कर लिया कि इस प्रकार वृद्ध व्यक्ति की सहायता करनी है और वृद्ध को सौंप कर चुपके से खिसक जाना ही बेहतर समझा।
परोपकार एक ऐसे बीज की भाँति है जिसे यदि दर्प का कीड़ा न लगा हो तो नियति की भूमि पर गिरने के बाद कई गुना दानों को वह अपने कर्त्ता के लिए उत्पन्न करता है, किसान अपने खेत पर हल चलाता और बीज बोता है। उसके पास न तो इस बात का हिसाब रहता है कि खेत में बोये गये बीजों की संख्या कितनी थी और न इस बात का कि उसने किस-किस स्थान पर बीज बोये। लेकिन फिर भी खेत के सम्बन्ध में एक मोटा अनुमान लगाया जा सकता है कि उसमें कितनी फसल उत्पन्न होती है। एक व्यक्ति जो अपनी विभूतियों और शक्तियों को औरों के हित में लगाता है और न इस बात का कोई लेखा-जोखा रखता है कि उसने कितने उपकारी कार्य किये और न उन व्यक्तियों की गणना रखता है जो उपकृत होते हैं। वह इस लोकसेवा साधना से अनंत गुना परिणाम प्राप्त करता है।
उपकार करने और उसे भूल जाने की बात सिद्धान्ततः सत्य लगती है, पर उपकार की कसौटी क्या है? सिडनी स्मिथ उपकार का व्यावहारिक स्वरूप बताते हुए लिखते है- “हमें प्रतिदिन कम से कम एक व्यक्ति को अवश्य प्रसन्न करना चाहिए। यदि आप प्रतिदिन एक व्यक्ति को प्रसन्नता प्रदान करें तो दस वर्ष में आप तीन हजार छः सौ पचास व्यक्तियों को उल्लसित कर सकेंगे, जो कि एक छोटे कस्बे की आधी जनसंख्या के बराबर है। इस प्रकार आप मानवता के आनन्द कोष में एक महान योगदान देंगे।”
किसी को प्रसन्न कर देने का अर्थ उसे हँसा भर देना नहीं है। हँसाने का काम तो विदूषक भी बड़ी अच्छी तरह जानते हैं। उपकारी प्रफुल्लता का अर्थ है अपनी समस्याओं के कारण खिन्न और क्षुब्ध हुए व्यक्तियों का समाधान खोजना और उसे हल करने के लिए भरसक सहयोग करना। इस सेवा-साधना से लाभान्वित व्यक्ति का आभार और संसार में आनन्द वृद्धि का लाभ उपकारी को मिलेगा– यह निश्चित है। पर उतना ही व्यर्थ है यह भी कि उसकी आशा की जाय। अध्यात्म की दृष्टि से समूचा विश्व ही एक शरीर है। शरीर के किसी अंग में या कि पैर के तलुओं में खुजली उठे तो हाथ दौड़कर तुरन्त उस स्थान को खुजलाते हैं। लेकिन उस समय वह आशा नहीं की जाती कि हाथ को उसके परिश्रम का प्रतिदान मिलेगा। समूचा विश्व जब एक शरीर है और एक दूसरे किसी अंग की सेवा करता है तो फिर यह आशा करना कौन-सी बुद्धिमानी की बात है कि उसका प्रतिदान मिलेगा और हाथ तो अपनी सेवा का कोई हिसाब नहीं रखता फिर अपने द्वारा किये हुए उपकारों का हिसाब रखने का ही क्या अर्थ है?
जीवन और अध्यात्म के नियम बड़े सीधे-साधे और व्यावहारिक हैं। उनमें जटिलता उत्पन्न करने के लिए उत्तरदायी है-मानवी दर्प बुद्धि। अतः चाहिए कि उससे पृथक रहकर ही मानवी चेतना का-आत्मिक परिधि का विकास किया जाय और सेवा-साधना का-उपकार भावना का यथार्थ आनन्द लिया जाय।
—-***—-
| |
26
| |
Write Your CommeHerents Here:

Billionaire Richard Branson has some simple advice for those who want to succeed | Ladders


There’s a secret to Bransons’ success, and it’s very simple
He has one piece of advice for anyone still at the beginning of their careers: don’t give up. On Virgin’s website, he said:

“There have been so many times in my career where my ideas were overlooked. Friends, family members, people I looked up to, and the banks – not everyone always saw the potential I saw. But that didn’t deter me. Just because others don’t believe in your ideas from the get-go doesn’t mean that they are worthless. In my case, it drove me to want to succeed even more.”

He believes there’s always a second chance in life, for everything — and that if you give up, you never know what you would have achieved in the end.

“Imagine where J.K. Rowling would be if she didn’t keep persevering when others didn’t recognise the greatness of her books,” he said. “Harry Potter and the Philosopher’s Stone was rejected 12 times and she was told not to quit her day job! Thomas Edison failed thousands of times to invent the lightbulb — if he’d given up, we’d all be in the dark. ”

via Billionaire Richard Branson has some simple advice for those who want to succeed | Ladders

Jay’s Quick Poetry-The Sharp And Grand Rock


Short story that inspired me to write a Quick Poem below

Imagine life is a game in which you are juggling five balls. The balls are called work, family, health, friends and integrity. And you’re keeping all of them in the air. But one day you finally come to understand that work is a rubber ball. If you drop it, it will bounce back. The other four balls — family, health, friends, integrity — are made of glass. If you drop one of these, it will be irrevocably scuffed, nicked, perhaps even shattered. And once you truly understand the lesson of the five balls, you will have the beginnings of balance in your life.

The Sharp And Grand Rock

A Poem by Jay Parkhe

Whose rock is that? I think I know.
Its owner is quite angry though.
He was cross like a dark potato.
I watch him pace. I cry A’llo.

He gives his rock a shake,
And screams you’ve made a bad mistake.
The only other sound’s the break,
Of distant glasses and bars awake.

The Rock is sharp, Grand and deep,
But he has promises to keep,
Tormented with nightbirds he never sleeps.
Revenge is a promise a man must keep.

He rises from his flat bed,
With thoughts of violence in his head,
A flash of rage and he sees red.
Without a men-O-pause you turned and fled.

With thanks to the poet, Robert Frost, for the underlying structure